Ayurvedic Treatment For Piles in Delhi

पाइल्स के लिए आयुर्वेदिक उपचार

बवासीर एक ऐसा रोग है, जिसका दर्द किसी भी उम्र के व्यक्ति के लिए असहनीय होता है। मलाशय के आसपास की नसों की सूजन के कारण बवासीर जैसी गंभीर बीमारी विकसित होती है। बवासीर के दो प्रकार होते हैं अंदरूनी और बाहरी। अंदरूनी बवासीर में नसों की सूजन नहीं दिखाई देती लेकिन यह पीड़ित व्यक्ति को महसूस होती है। बाहरी बवासीर में सूजन गुदा के बिलकुल बाहर दिखाई देती है। मलत्याग के समय मलाशय में अत्यधिक पीड़ा और इसके बाद रक्तस्राव, खुजली इसके लक्षण हैं, जिससे बवासीर की पहचान आसान हो जाती है। अगर आप भी इस घातक बीमारी से परेशान हैं तो आयुर्वेदिक औषधियों को अपनाकर आप बवासीर से छुटकारा पा सकते हैं।

पाइल्स से जुड़ी सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि लोग इसके बारे में डॉक्टर से बात करने में झिझकते हैं और इसे छिपाते हैं. छिपाने के चक्कर में अक्सर ये बीमारी बढ़ जाती है और संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. शुरुआत में सिर्फ दर्द और जलन का ही एहसास होता है लेकिन अगर समस्या बढ़ जाए तो खून आने लगता है. पाइल्स में एनल या रेक्टल एरिया की ब्लड वेसल्स बड़ी हो जाती है जिसकी वजह से जलन के साथ दर्द होता है.

पाइल्स का दर्द हर किसी के लिए एक जैसा हो, ये जरूरी नहीं. रेक्टल एरिया में दर्द, खुजली और जलन, सूजन और संक्रमण इसके सामान्य लक्षण हैं. पाइल्स का इलाज संभव है लेकिन लोग झिझक में इलाज से बचते हैं पर आप चाहें तो आयुर्वेदिक औषधियों की मदद से इसे ठीक कर सकते हैं.

Ayurvedic Treatment For Piles in Delhi
Ayurveda Piles Treatment in Delhi

Ayurveda Piles Treatment in Delhi

Metro Piles Clinic is a real Ayurvedic Piles treatment center situated in Delhi. Offers viable Ayurvedic Treatments for Piles with supervision of profoundly qualified specialists and advisors. Metro Piles ayurvedic treatment center in Delhi is a Kottakkal Arya Vaidya Sala ensured healing and health center with exceedingly experienced doctors and specialists.

Hemorrhoids are the bleeding points in the butt region. These are the swollen thin veins which get cracked because of consistent straining during the poop. Crevice is commonly a cut in the butt mucosa (lining) which neglects to mend and causes pain each time when pass stools. Regularly the main drivers is blockage. The heredity and way of life assume a major job in this issue.

Ayurveda portrays this malady as Arsh rog. This is one of the troublesome one to oversee issues. This is of two sorts bleeding and none bleeding. Both bleeding and non bleding are reasonable.

The Ayurveda treatment is focused to destroy the root issue for example stoppage. At the point when the individual passes semi shaped stool the body gets time to recuperate. Other home grown arrangements to mend the injury, capture the bleeding, inflammation and pain are likewise endorsed for fast recuperation. Visit us for Ayurvedic Treatment For Piles in Delhi.